रविवार, 20 जून 2010

ये नेता नहीं हैं, ये हैं मौत के सौदागर


धरा  बेच  देंगे, गगन  बेच  देंगे,
ये  नेता  नहीं  हैं, ये  हैं  मौत  के  सौदागर,
ये  तो  लाश  पर  से  उठा  कर  कफ़न  बेच देंगे,

मौत  के  सौदागर


खुशियाँ  मानना इनसे  बचकर  ज़रा,
नहीं  तो  ये  तेरा  खुशियों  से  भरा  आँगन  बेच  देंगे ,
कभी  किसी  से  न  कहना , के , ये  नीला  आसमान  हमारा  है ,
पाता  नहीं  किसको  ये  नीला  गगन  बेच  देंगे ,

जाना  जो  कभी  तू  बाग़  में , तो  सांस  धीरे  से  ही  लेना ,
नहीं  तो  ये  हमारा  महकता  हुआ  चमन  बेच  देंगे ,

इन्हें  तो  हर  दिन  इन्तेजार  होता  है  बस  हादसों  का ,
गर  लाशें जमा  करने  पर  भी  वोटें   मिलने  लगे  इनको ,
तो  लाश  इक्कठा   करने  में  ये  अपनी  लाज-शर्म  बेच  देंगे ,




इनका  न  है  ज़मीर  जिंदा , अगर  हम  अब  भी  न  जगे  तो ,
ये  तो  विदेशो  में  हमारी  माँ, बहन  बेच  देंगे... 

9 टिप्‍पणियां:

  1. खुशियाँ मानना इनसे बचकर ज़रा,
    नहीं तो ये तेरा खुशियों से भरा आँगन बेच देंगे
    ... जबरदस्त रचना ... बहुत बहुत बधाई, बेहद प्रसंशनीय रचना!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. Well done Ravish...very true what u've written, in today's context!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. well written...though i took much time to read as i am not used to Hindi as such. But great post :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप सभी का धन्यवाद, really thanks to everyone who took out 2 minutes from there busy life for me.

    मै कोशिश करूँगा ऐसे ही लिखता रहूँ|

    उत्तर देंहटाएं
  6. नेताओं को इतना बेगाना मान लेने पर उनके स्‍वच्‍छंद होने की आशंका बढ़ने लगती है, वे हमारे ही भाई-बंदे हैं, गैर नहीं, हमारे प्रतिनिधि, हमारी आवाज. अब एक बार फिर सोचें कि ऐसा क्‍यों.

    उत्तर देंहटाएं